बाबा राम रहीम की नहीं बल्कि राधे माँ की भी लाइफ है रंगीन

0
809

इस समय गुरमीत राम रहीम की दौलत और भव्‍य लाइफस्‍टाइल की भी खूब चर्चा हो रही है. ख़बरों में कहा जा रहा है कि राम रहीम के डेरे में होटल, रिज़ॉर्ट, स्‍पा और हेल्‍थ क्‍लब समेत तमाम सुव‍िधाएं मौजूद हैं. वैसे राम रहीम के अलावा भी हमारे देश में ऐसे कई लोग हैं जो खुद को साधु-संत कहलाना पसंद करते हैं लेकिन उनकी ज़‍िंदगी में ऐशो-आराम की कोई कमी नहीं. ऐसी ही एक महिला हैं.

राधे मां जिनकी लाइफस्‍टाइल भी कम विवादित नहीं. राधे मां के कपड़े मेकअप, भक्‍तों से गले मिलना और उन्‍हें फूल देकर ‘आई लव यू फ्रॉम दी बॉटम ऑफ माई हार्ट’ कहना सब कुछ बेहद जुदा और विवादित है. राधे मां का असली नाम सुखविंदर कौर है और वह मूल रूप से पंजाब के होश‍ियारपुर शहर के मुकरियां की रहने वाली हैं. उनकी शादी 17 साल की उम्र में मोहन सिंह से हुई थी. उनके पति मिठाई की दुकान में काम करते थे.

कुछ समय बाद उनके पति नौकरी करने के लिए दोहा चले गए जिसके बाद वो परमहंस डेरा में जाने लगीं. महंत रामाधीन से दीक्षा लेने के बाद आस-पड़ोस के लोग उन्‍हें अपने घरों में होने वाले सत्‍संगों में बुलाने लगे. लोकप्रियता बढ़ने के साथ ही उन्‍होंने अपने पहनावे को भी बदल दिया और किसी देवी मां की तरह तैयार होने लगीं. आज राधे मां के नाम पर एक मंदिर और एक आश्रम भी है.

बताया जाता है कि उनके भक्‍तों और समर्थकों ने ही उन्‍हें राधे मां का नाम दिया है. यही नहीं राधे मां खुले मैदान में दिव्‍य दर्शन भी देती हैं. उनके समर्थकों का दावा है कि राधे मां कभी-कभार ही गहने पहनती हैं और फिर उन्‍हें उतार देती हैं. अकसर वे इन गहनों को जरूरतमंद दुल्‍हनों को भेंट कर देती हैं. कहा तो यहां तक जाता है कि राधे मां के भक्‍त ही नहीं चाहते कि वो किसी संन्‍यासिन की तरह पोशाक पहनें.

Comments

comments