जानिए फिल्म ZERO में कैसे बोना हुए शाहरुख़ खान?

0
48

हाल ही में शाहरुख़ खान ने अपनी आने वाली फिल्म जीरो का ट्रेलर रिलीज़ किया है जिसमे शाहरुख़ ख़ान एक बौने शख्स का किरदार निभा रहे हैं. इस फिल्म के ट्रेलर लॉन्च पर शाहरुख़ ने बताया कि उनके किरदार को रचने के लिए बहुत एडवांस्ड विजुअल इफेक्ट्स का इस्तेमाल किया गया है और इसे बनाने में दो साल का वक्त लगा है.

इतना ही नहीं निर्देशक आनंद एल राय की इस फिल्म में कई तरह के विजुअल इफेक्ट्स का इस्तेमाल किया गया है, जिसका काम शाहरुख़ की कंपनी रेड चिलीज़ वीएफएक्स के पास है. पहले भी फिल्मों में विजुअल इफेक्ट्स के ज़रिए छोटे को बड़ा और बड़े को छोटा दिखाया जाता रहा है. ‘जानेमन’​ फिल्म में अनुपम खेर और ‘अप्पू राजा’ फिल्म में कमल हसन भी बौने शख्स का किरदार निभा चुके हैं.

​फिल्मों में बौना दिखाने के लिए कुछ खास तकनीकों का इस्तेमाल किया जाता है. ‘ज़ीरो’ फिल्म में भी शाहरुख़ को बौना दिखाने के लिए ऐसी ही तकनीकों का इस्तेमाल किया गया होगा. इन तकनीकों के बारे में हम यहां बता रहे हैं. ‘फोर्स्ड परस्पेक्टिव’, यह ऐसी तकनीक है जिसमें ‘ऑप्टिकल इल्यूजन’ की मदद से किसी ऑबजेक्ट को छोटा, बड़ा, दूर या ​पास दिखाया जा सकता है.

यह भी कहा जा रहा है कि इस फिल्म को बनाने के लिए विदेश से एक्सपर्ट बुलाए गए हैं. हॉलिवुड​ फिल्मों में इस तरह की तकनीकों का इस्तेमाल होता रहा है. हॉलिवुड की ‘द हॉबिट’ और ‘लॉर्ड ऑफ द रिंग्स’ जैसी फिल्मों में भी इसका इस्तेमाल किया गया है और कई लोगों को असल कद से छोटा दिखाया गया है. ‘लॉर्ड ऑफ द रिंग्स’ में छोटे और बड़े कद के किरदारों को शूट करने के लिए एक खास तरीका अपनाया गया था.

Comments

comments