कड़ी ठण्ड में ठिठुरते रोहिंग्या शरणार्थीयों की मदद करने पहुंची मीम की टीम, बाटें गर्म वस्त्र

0
33

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक खबर बड़ी ही तेज़ी से वायरल हो रही है वहीँ भारत के सीमावर्ती देश म्यांमार के कुछ शरणार्थी दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद में रह रहे हैं। म्यांमार में बोद्धिस्ट चरमपंथ का शिकार हुए ये रोहिंग्या मुसलमान फरीदाबाद में प्लास्टिक की पतली सी छत के नीचे रह रहे हैं, यह छत सर्दी तो नहीं रोक पाती हां इतना जरूर है कि यह कहा जा सकता है कि इनके पास आसमान के अलावा भी एक छत है।

मीम की टीम ने 31 दिसम्बर को फरीदाबाद पहुंचकर इन शरणार्थियों को गर्म कपड़े वितरित किये हैं। संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष नवेद चौधरी ने बताया कि रविवार दोपहर को वे अपनी टीम के साथ फरीदाबाद पहुंचे थे जहां उन्होंने रोहिंग्या मुसलमानों को गर्म कपड़े और कंबल वितरित किये हैं। रोहिंग्या मुसलमान फरीदाबाद के मुजेडा और मिर्ज़ापुर गांव में कैम्प में रह रहे हैं.

रोहिंग्या मुसलमानों के बच्चे सर्दी से ठिठुर रहे थे, जिनके लिये मीम टीम ने स्वेटर और ऊनी वस्त्र वितरित किये हैं। शिविरों में रह रहे परिवारों को मीम की तरफ से कंबल वितरित किये गये हैं। संगठन के सचिव सैय्यद फैजान जैदी के मुताबिक फरीदाबाद में दो शिविर हैं जिनमें रोहिंग्या मुसलमान रह रहे हैं।

आपको बतादे कि साल 2012 से म्यांमार में बोद्धिस्ट चरमपंथ बढ़ा है, इस चरमपंथ को म्यांमार की सरकार का संरक्षण प्राप्त है जिसे लेकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर म्यांमार की आलोचना और निंदा होती रही है। इसी साल अगस्त में म्यांमार में बड़े पैमाने पर रोहिंग्या मुसलमानों की हत्याएं की गई हैं। जिसके चलते छ लाख रोहिंग्या मुसलमानों ने बंग्लादेश में शरण ली है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें