जमीअत उलेमा ए हिंद ने वसीम रिज़वी को भेजा 20 करोड़ रु का मानहानि का नोटिस

0
53

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक बड़ी खबर आ रही है कि जमीअत उलेमा ए हिंद ने रिज़वी को 20 करोड़ रु का मानहानि नोटिस भेजा है. नोटिस में रिज़वी से भारतीय मुसलमानों से बिना शर्त माफी मांगने की मांग की गई है. जमीअत उलेमा ए हिंद के कानूनी सलाहकार गुलजार आजमी ने बताया कि शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी द्वारा भेजे गए.

आगे उन्होंने कहा कि दीनी मदरसों में बजाय डॉक्टर, इंजीनियर पैदा होने के आतंकवादी पैदा होते हैं इसलिए उन्हें बंद कर देना चाहिए और उन्हें आधुनिक शिक्षा से जोड़ देना चाहिए जहां मुसलमानों के साथ दूसरी जातियों के बच्चे भी शिक्षा प्राप्त कर सकें पर मुसलमानों को कड़ी आपत्ति है और जमीअत उलेमा के रूप मुस्लिम प्रतिनिधि संगठन इस पर कड़ी आपत्ति दर्ज करती है.

वसीम रिजवी ने बिना किसी पुख्ता सबूत और डेटा के प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर उन्हें भारतीय मुसलमानों को लेकर गुमराह करने की कोशिश की जिसकी जितनी निंदा की जाए कम है. गुलजार आजमी ने कहा कि भारत के विभिन्न प्रांतों में स्थापित दीनी मदारिस में इस्लाम की बुनियादी शिक्षा के साथ देशभक्ति और अन्य समुदायों के बीच सौहार्दपूर्ण संबंध स्थापित करने की शिक्षा दी जाती है.

इतना ही नहीं उन्होंने अध्यक्ष जमीअत उलेमा महाराष्ट्र मौलाना मुस्तक़ीम अहसन आजमी के निर्देश पर नोटिस भेजा जिसमें वसीम रिज़वी से बीस करोड़ रुपया क्षतिपूर्ति की मांग करते हुए मुसलमानों से माफी की मांग की है. एडवोकेट शाहिद नदीम ने कहा कि वसीम रिज़वी के पत्र के बाद एक ओर जहां आम मुसलमानों में बेचैनी फैली हुई है.