मन की बात में पीएम मोदी ने की राशिद खान की प्रशंसा

0
65

नई दिल्ली: अफगानी क्रिकेटर राशिद खान आजकल काफी चर्चाओं में हैं, जहाँ एक तरफ दो देशवासियों के दिलों में जगह बना चुके हैं वहीँ दूसरी तरफ अपनी प्रतिभा से प्रधानमंत्री मोदी के भी दिल जीत लिया है. शायद यही वजह रही जिस कारण पीएम मोदी ने अपनी मन की बात में उनकी भूरी भूरी प्रशंसा की. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को मन की बात में कई मुद्दों पर चर्चा की। 45 वें संस्करण में मोदी ने अफगानिस्तान के भारत के साथ पहले टेस्ट मैच की चर्चा करते हुए अफगान खिलाड़ी राशिद खान की तारीफ की।उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान-भारत टेस्ट सीरीज का मैच विशेष कारण से याद रहेगा।

भारतीय टीम ने ट्राफी लेते समय अफगानिस्तान की टीम को आमंत्रित कर बताया कि खेल भावना क्या होती है।उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान के खिलाड़ी राशिद खान ने आइपीएल में अच्छा प्रदर्शन किया, जिस पर अफगानिस्तान के राष्ट्रपति ने मुझे टैग कर ट्वीट किया-मैं अपने भारतीय दोस्तों का आभारी हूं, जिन्होंने हमारे खिलाड़ियों को कौशल दिखाने का प्लेटफॉर्म दिया। मोदी ने राशिद को क्रिकेट जगत की संपत्ति करार दिया।

मोदी ने कहा कि जीएसटी को एक साल पूरा होने वाला है। एक देश-एक टैक्स का सपना हकीकत में बदल चुका है। इसकी क्रेडिट उन्होंने राज्यों को दी।उन्होंने जीएसटी की भी चर्चा की। कहा कि अब तक जीएसटी परिषद की 27 बैठकें हुईं, इन बैठकों में अलग-अलग राजनीतिक विचारधारा और राज्यों के लोग बैठते हैं, परिषद में अब तक सभी निर्णय सर्वसम्मति से लिए गए हैं। उन्होंने कहा कि सुदूर गांवों में अब कॉमन सर्विस सेंटर के जरिए बुजुर्ग पेंशन से लेकर पासपोर्ट बनवा रहे हैं।

2019 में जलियांवाला बाग की घटना के सौ साल पूरे हो रहे हैं, इसे कैसे हम स्मरण करें, इस पर सोच सकते हैं। नरेंद्र मोदी ने कहा कि दिल्ली के रोहिणी निवासी रमण कुमार ने नरेंद्र मोदी एप पर आगामी छह जुलाई को डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिन के बारे में जानकारीदी है। वे चाहते हैं कि इस मन की बात में डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी के बारे में देशवासियों से बात करूं। डॉ. मुखर्जी का सपना था भारत की एकता और अखंडता का, हमें डॉ. मुखर्जी के संदेश को हमेशा याद रखना चाहिए, हर भारतीय को सद्भाव और भाईचारे की भावना के साथ देश की प्रगति में जुटना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कबीरदास को भी याद किया। कहा कि उन्होंने अपने समय की कुरीतियों और अंधविश्वासों को तोड़ने का काम किया। मान्यता थी कि मगहर में मौत से व्यक्ति स्वर्ग नहीं जाता, बल्कि काशी में शरीर त्यागने पर ही स्वर्ग जाता है। मगर कबीरदास ने जीवन के आखिरी क्षणों में मगहर जाकर शरीर त्यागा। मोदी ने एक जुलाई को डॉक्टर्स डे के लिए देश के सभी चिकित्सकों को शुभकामनाएं दी। प्रधानमंत्री ने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन पर भी चर्चा की।कहा कि वायुसेना के हमारे योद्धाओं ने धरती से 15 हजार फुट की ऊंचाई पर योगासन कर सबको हैरत में डाल दिया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें