देश के प्रति ज़िम्मेदारी पर सूफ़ी युवाओं की चर्चा 12 अगस्त को कॉन्स्टीट्यूशन क्लब ऑफ़ इंडिया में

0
31

नई दिल्ली, 10 अगस्त। मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया यानी एमएसओ की तरफ़ से इस रविवार 12 अगस्त को राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है जिसमें युवाओं की देश के प्रति भूमिका पर विचार किया जाएगा। सम्मेलन में देश भर से संगठन के ज़िम्मेदार पदाधिकारियों के अलावा अन्य युवजन भी शरीक होगा।

पत्रकारों से बातचीत में इस सम्मलेन के संयोजक मौलाना मुहम्मद ज़फरुद्दीन बरकाती ने बताया कि सम्मेलन में ख्यात प्राप्त युवा सूफ़ी नेता सैयद मुहम्मद कादरी मुख्य वक्ता और तंज़ीम उलामा ए इस्लाम के संस्थापक अध्यक्ष मुफ्ती अशफ़ाक़ हुसैन क़ादरी कार्यक्रम अध्यक्ष के तौर पर अपने विचार रखेंगे। इसके बाद सभा में एक प्रस्ताव पर मौजूद लोगों से राय ली जाएगी और इसे देश के सूफ़ी युवा समुदाय की मंशा की प्रतिलिपि के तौर पर भारत सरकार को भेजी जाएगी।

बरकाती ने बताया राजधानी के कॉन्स्टीट्यूशन क्लब ऑफ़ इंडिया में आयोजित इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से छह बिन्दुओं पर चर्चा होगी। मुख्य वक्ता के तौर पर सैयद मुहम्मद क़ादरी अपने संभाषण में युवाओं की देश के प्रति ज़िम्मेदारियों, राष्ट्रीय सुरक्षा एवं आतंकवाद और कट्टरता के अन्मूलन में सूफियों की भूमिका और आवश्यकता पर बयान देंगे। अध्यक्ष के तौर पर मुफ़्ती अशफाक हुसैन क़ादरी मानवाधिकार की समझ, रोज़गार और कौशल प्रशिक्षण के माध्यम से युवाओं को देश के प्रति ज़िम्मेदार बनाए जाने के फॉर्मूले पर चर्चा करेंगे। इस मौक़े पर सभी लोगों की राय से भारत सरकार के नाम एक ज्ञापन तैयार किया जाएगा जिसमें बताया जाएगा कि कट्टरता और आतंकवाद के अन्मूलन में युवाओं ख़ासकर मुस्लिम सूफ़ी युवाओं की महती भूमिका हो सकती है जिस पर विश्वास किए जाने की आवश्यकता है। सभा में कई प्रख्यात सूफ़ी विचारक वर्तमान राजनीतिक परिस्थितियों और इसे बेहतर बनाने के लिए सुझाव पेश करेंगे जिसे मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया यानी एमएसओ अपने कार्यक्रम की रूपरेखा में सम्मिलित करने का प्रयास करेगा।

मुस्लिम स्टूडेंट्स ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इंडिया यानी एमएसओ के अध्यक्ष बताएंगे कि इस स्वतंत्रता दिवस पर देश के 25 स्थानों पर इसके सफल आयोजन का तात्पर्य है कि स्वतंत्रता और इसकी ज़िम्मेदारी के साथ साथ देशप्रेम को युवाओं के मन मस्तिष्क में प्रतिष्ठापित करने के लिए सुधि आयोजन की आवश्यकता क्यों है।

कार्यक्रम में राजधानी दिल्ली के अलावा राजस्थान, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, गुजरात और कई केन्द्र शासित प्रदेशों से युवा हिस्सा लेंगे।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें