मुस्लिमों ने किया हिन्‍दू महिला का अंतिम संस्‍कार, बच्‍चों की परवरिश की भी ली ज़िम्मेदारी

0
71

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के ठाकुरंगज में मुस्लिमों ने बड़ी मिसाल पेश करते हुए न केवल एक बेसहारा हिन्‍दू महिला का अंतिम संस्‍कार किया। बल्कि उसके दो अनाथ बच्चों की परवरिश का जिम्मा भी उठाया।

जानकारी के अनुसार, ठाकुरगंज थाना क्षेत्र के गढ़ी पीर खां इलाके में राजकुमारी नाम की महिला अपने दो छोटे-छोटे बच्चों संग किराये के मकान में रहती थी। वर्षों से पति के लापता रहने के कारण वह लोगों के घरों में चौका-बर्तन कर अपना और बच्चों का पालन-पोषण कर रही थी। गुरुवार को अचानक उसकी तबियत काफी खराब हो गई, जिसे राजधानी के केजीएमयू अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां शुक्रवार को उसकी मौत गई। मोहल्ले के लोग उनके शव को लेकर आए।

गढ़ी पीर खां वार्ड से पार्षद अल्ला प्यारे के पार्षद के मुताबिक इस दौरान मृतिका के परिवार के बारे में कोई जानकारी नहीं होने पर अंतिम संस्कार पर सवाल खड़ा हो गया। दोनों बच्चे भी मां को मृत देखकर बुरी तरह रो रहे थे। कुछ देर मशवरे के बाद आसपास के लोगों ने ही बच्चों की देखरेख के साथ अंमित संस्कार कराने का फैसला लिया।

अल्ला प्यारे ने बताया मृतक महिला की मौत के बाद उसके परिवार में सिर्फ दो छोटे-छोटे बच्चे थे। ऐसे में इन्हीं युवाओं ने मासूम बच्चों की परवरिश के लिये मोहल्ले के लोगों से चंदा भी इकट्ठा किया। इसके अलावा मोहल्ले के ही बहुत से लोगों ने मासूम बच्चों की मदद का आश्वासन दिया है। पार्षद ने बताया कि बच्चों की परवरिश के लिये जो लोग मदद करेंगे, उस धनराशि को बच्चों का अकाउंट खुलवाकर जमा कराया जाएगा।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें