मोदी के मंत्री का बड़ा दावा – अयोध्या में विवादित जगह पर पहले था बौद्ध मंदिर

0
40

मोदी सरकार में सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री रामदास अठावले ने अयोध्या विवाद को लेकर बड़ा दावा करते हुए कहा कि अयोध्या में पहले राम मंदिर नहीं थी, बल्कि बौद्ध मंदिर था। उन्होंने यह भी दावा किया कि संबंधित जमीन की खुदाई की जाए, तो बौद्ध मंदिर के अवशेष मिल सकते हैं।

जयपुर के पिंक सिटी प्रेस क्लब में पत्रकारों से बात करते हुए एक सवाल के जवाब में केन्द्रीय राज्य मंत्री रामदास अठावले ने कहा है कि अयोध्या में राम मंदिर और बाबरी मस्जिद से पहले भगवान बुद्ध का मंदिर था। उन्होने इस विवाद को सुलझाने के लिए सुझाव भी दिया।

उन्होने कहा कि इस विवादित 60 एकड़ जमीन पर राम मंदिर और बाबरी मस्जिद दोनों ही बना देने चाहिए। इस भूमि पर 40 एकड़ में राम मंदिर बना देना चाहिए और बची 20 पर बाबरी मस्जिद। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि फिलहाल राम मंदिर मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है।

अठावले ने आगे कहा कि, “इलाहाबाद हाईकोर्ट का जजमेंट ऐसा है कि वहां की जमीन को कई पक्षों को बांटने के लिए कहा गया है। मामला अभी सुप्रीम कोर्ट में है। अभी इस पर किसी तरह का फैसला नहीं आया है। लेकिन मुझे लगता है कि जो कुछ भी हो, वह आम सहमति से हो।

उन्होने कहा, देखा जाए तो वह जगह ऑरिजनली बौद्ध मंदिर की है। वहां जमीन के नीचे खुदाई करने पर बुद्ध की मूर्तियां और बुद्ध मंदिर के अवशेष मिलेंगे। लेकिन हम इन दोनों के झगड़े में नहीं आना चाहते हैं। कोर्ट यह फैसला दे सकता है कि आपलोग बैठकर आम सहमति से विचार करो।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें