लखनऊ शूटआउट: आरोपी सिपाही को मिला रहा समर्थन, पुलिस विभाग में विद्रोह की धमकी

0
121

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुक्रवार रात मल्टिनैशनल कंपनी ऐपल में एरिया मैनेजर विवेक तिवारी के साथ हुए पुलिस शूटआउट मामले में आरोपी सिपाही प्रशांत चौधरी के समर्थन में यूपी पुलिस एकजुट होती दिख रही है। सिपाही की पत्नी रेखा चौधरी की अपील पर अब तक उसके अकाउंट में पांच लाख से अधिक की रकम जमा हो चुकी है।

आरोपी कॉन्स्टेबल प्रशांत चौधरी की पत्नी राखी भी यूपी पुलिस में बतौर सिपाही कार्यरत हैं। साथी पुलिसकर्मियों ने फंड जुटाने की अपील की, जिसके बाद अकाउंट का बैलेंस जो महज 447.26 रुपये था, वह बढ़कर 5 लाख 28 हजार रुपये हो चुका है। इतना ही नहीं पुलिस में विभाग में विद्रोह की भी धमकी दी जा रही है।

सिपाहियों के धमकी भरे बयान: 

  • कांस्टेबल विष्णु चाहर ने लिखा है कि पुलिसवालों को राइफल के बजाए झुनझुना दें ताकि हम उसको बजाते रहें और सरकार के गुण गाते रहें.
  • सिपाही प्रदीप यादव ने सोशल मीडिया पर डीजीपी को चेतावनी दी है कि ऐसा कुछ न करें नहीं तो 1973 दोहराया जा सकता है. 1973 पुलिस विद्रोह हुआ था जिसमें गोली चली थी.
  • सिपाही ने चौधरी रवि तेवतिया ने सोशल मीडिया पर लिखा कि मेरठ में गोली नहीं चलाई गई तो भी पांच सिपाही सस्पेंड कर दिए गए और यहां गोली चलाई तो 302 लिख दी गई. समझ में नहीं आ रहा है कि क्या करें
  • सिपाही आरके शुक्ला ने लिखा है कि सस्पेंड और लाइन हाजिर दोनों चलेगा लेकिन जेल नहीं जाएंगे. लूट होती है होने दो, डकैती होती है होने दो.​

वहीं प्रशांत ने सवाल उठाया, ‘हमें पता चला है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि हमारी एफआईआर पंजीकृत न की जाए। क्या हमारी जिंदगी की कोई कीमत नहीं है?’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें