शरद पवार के बदले सुर, अब कहा – राफेल डील पर देश को लूटा गया

0
37

राफेल मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन कर मुश्किलों में आए एनसीपी चीफ शरद पवार ने अब कहा, ‘‘ कुछ लोगों ने मेरी आलोचना की कि मैंने उनका (मोदी का) समर्थन किया है। मैंने उनका समर्थन नहीं किया है और ऐसा मैं कभी नहीं करूंगा।’’

शरद पवार ने राफेल डील के मुद्दे को लेकर मौजूदा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि कैसे विमान की कीमत 650 करोड़ रुपये से 1600 करोड़ रुपये हो गई। उन्होंने दावा किया कि फ्रांस से लड़ाकू विमानों के खरीद के इस अरबों डॉलर के सौदे में देश को ‘लूटा’ गया है।

शरद पवार ने कहा, ‘‘सरकार ने विमान खरीदे हैं. मैं साफ तौर पर कह रहा हूं कि सरकार को संसद को बताना चाहिए कि विमान की कीमत (प्रति विमान) 650 करोड़ रुपये से बढ़कर 1600 करोड़ रुपये कैसे हुई।’’ इसी बीच बड़ी ही ‘चतुराई’ से पवार ने ये भी कह दिया कि जब तक इस डील को लेकर पीएम मोदी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिलते, उनका नाम लेना ठीक नहीं होगा। लेकिन अगर केंद्र सरकार इस मुद्दे पर शांत रहेगी तो उनपर आरोप तो लगेंगे ही।

मराठी में किये गए अपने ट्वीट में पवार ने लिखा है, ‘‘बोफोर्स मामले में (80 के दशक में) जब आरोप लगे थे तो (पूर्व प्रधानमंत्री) राजीव गांधी के खिलाफ जांच बैठी थी, लेकिन उसमें कुछ नहीं निकला। उस वक्त जिन्होंने जांच की मांग की थी वे अब सत्ता में हैं, लेकिन वे राफेल पर अपना मुंह बंद रखे हुए हैं। इस सौदे में देश को लूटा गया है।’’

एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘‘राफेल लड़ाकू विमानों की कीमत 650 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,600 करोड़ रुपये तक पहुंचने पर केंद्र को संसद में सफाई देनी चाहिए। इसकी जांच करने की जरूरत है और सौदे के दस्तावेज सभी दलों के समक्ष रखा जाना चाहिए।’’

पवार ने हाल ही में ये कहा था कि उन्हें नहीं लगता कि लोगों को राफेल सौदे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मंशा पर कोई शक है। जिसके बाद  बिहार के दिग्गज नेता और एनसीपी के अहम चेहरे रहे तारिक अनवर और महासचिव मुनाफ हकीम ने पिछले हफ्ते पार्टी से इस्तीफा दे दिया था।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें