अख्तर अली से बने धर्म सिंह ने कहा – मोदी के भारत में मुस्लिमों से नहीं होता निष्पक्ष व्यवहार

0
269

उत्तर प्रदेश के बागपत में परिवार के एक सदस्य की मौत के मामले में पुलिस द्वारा निष्पक्ष जांच नहीं करने और मुस्लिम समाज से समर्थन न मिलने से नाराज 13 सदस्यों के पूरे मुस्लिम मुस्लिम परिवार ने कथित रूप से हिंदू धर्म स्वीकार कर लिया।

हिंदू युवा वाहिनी (भारत) की देखरेख में धर्मगुरु ने हवन कराकर 13 लोगों को विधिवत रूप से हिंदू धर्म स्वीकार कराया गया।  धर्म परिवर्तन करने वाले लोगों ने एसडीएम को इस संबंध में शपथपत्र भी सौंपे। जिसली पुष्टि जिलाधिकारी ने भी की। इस दौरान अख्‍तर अली से धर्म सिंह बने शख्स ने कहा कि मोदी जी के भारत में मुस्लिमों के साथ सही व्‍यवहार नहीं होता, मुझे न्‍याय चाहिए।

उन्होने कहा, पहले मेरा नाम अख्तर अली था, मैंने अपना धर्म इसलिए बदल लिया क्योंकि पुलिस ने मेरे बेटे की मौत की सही से जांच नहीं की। साथ ही मुस्लिम समाज भी हमारे साथ नहीं खड़ा हुआ। पीएम मोदी के भारत में मुसलमानों को एक नजर से नहीं देखा जा रहा है, मैं इंसाफ की मांग करता हूं।
अख्तर अली के अलावा उनके बेटे दिलशाद से दिलेर सिंह, नौशाद से नरेंद्र और इरशाद से कवि बन गए और तीनों की पत्नियों, दो पोते और चार पोतियां भी शामिल है। हालांकि महिलाओं को पोतियों को इस कार्यक्रम से दूर रखा गया और परिवार के बच्चो सहित 7 लोग इसमें शामिल रहे।
इन लोगों का कहना है योगी से उन्हें इंसाफ जरूर मिलेगा और जरूरत पड़े तो इसकी सीबीआई जांच भी होनी चाहिए।परिवार का कहना है कि इस्लाम धर्म में रहकर अपने बेटे को न्याय नहीं दिला सकते क्योंकि मुस्लिम धर्म के दबंगों ने ही हमारे बेटे की हत्या की है। अभी भी पूरे परिवार का जीना मुहाल कर रखा है।
दबंग आरोपी आए दिन परिवार को जान से मारने की धमकी दे रहे हैं। जिसकी दहशत में पीड़ितों ने अपना गांव छोड़ दिया है। इस वजह से उन्होंने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म अपनाने का फैसला किया है। उन्हें भरोसा है कि हिन्दू धर्म में रहकर ही न्याय मिल सकता है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें