ब्रह्मोस जासूसी: निशांत की गिरफ्तारी के बाद 115 FB प्रोफाइल की जांच में जुटी ATS

0
33

नागपुर. नागपुर में डिफेंस रिसर्च डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) के प्रोजेक्ट ब्रह्मोस मिसाइल यूनिट से ब्रह्मोस मिसाइल के सीक्रेट पाकिस्तान और अमेरिया को देने वाले निशांत अग्रवाल को गुरुवार को लखनऊ में एटीएस के विशेष न्यायालय में पेश किया गया। न्यायालय ने निशांत को सुनवाई के बाद 7 दिन की पुलिस कस्टडी रिमांड पर दे दिया।

एटीएस की टीम अब 115 फेसबुक प्रोफाइल की जांच में जुटी है। निशांत के लैपटॉप व हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला में सील किये गए कंप्यूटर की फॉरेंसिक जांच से जल्द कई बड़े पर्दाफाश होने की उम्मीद है। एटीएस नागपुर से ब्रह्माोस मिसाइल यूनिट के सीनियर सिस्टम इंजीनियर निशांत अग्रवाल को लेकर लखनऊ पहुंच गई है। पुलिस कस्टडी रिमांड के दौरान केंद्रीय जांच एजेंसियां भी उससे सीधे पूछताछ करेंगी।

इससे पहले जांच में इस बात की पुष्टि हुई है कि निशांत अग्रवाल जो कि एक इंजीनियर है, पाकिस्तान के आई.पी. एड्रैस से संचालित होने वाली फेसबुक आई.डी. से चैटिंग से माध्यम से संपर्क में था। उत्तर प्रदेश पुलिस का कहना है ब्रह्मोस इंजीनियर निशांत फेसबुक पर ‘नेहा शर्मा’ और ‘पूजा रंजन’ नाम से चल रहे दो फर्जी एकाउंट के जरिए पाकिस्तान के संदिग्ध खुफिया सदस्यों से संपर्क में था।

अब इन फेसबुक आई.डी. की फ्रेंडलिस्ट से जुड़े करीब 115 लोगों के बारे में भी पड़ताल की जा रही है। बताया गया है कि एटीएस ने फ्रेंडलिस्ट में शामिल इन लोगों को उनकी प्रोफाइल के हिसाब से छांटा है। इनमें कई अकाउंट फेक हैं।निशांत ने पूछताछ में हैदराबाद स्थित प्रयोगशाला के एक कंप्यूटर से कुछ गोपनीय फाइलें (सूचनाएं) चोरी करने की बात स्वीकार की है।

एटीएस की टीम अब निशांत से कई अहम राज उगलवाने की कोशिश करेगी। इसमें किस-किसको रक्षा संबंधी गोपनीय सूचनाएं उपलब्ध कराई हैं। वह किस तरह से हनी ट्रैप का शिकार हुआ? एटीएस की टीम यह भी जानने की कोशिश करेगी कि क्या सूचनाएं देने के बदले इसके खाते में धन भी आया है? इसके लिए खातों की डिटेल लेकर उसकी जांच कराई जाएगी।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें