फतवे को बैन करने के उत्तराखंड हाईकोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक

0
85

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड हाईकोर्ट के उस फैसले पर रोक लगा दी है जिसमें फतवे व फरमान को पूरी तरह से बैन लगा दिया गया था।

हाईकोर्ट ने धार्मिक संस्थाओं, संगठनों, पंचायतों, स्थानीय पंचायतों और जन समूहों की ओर से फतवा जारी करने पर प्रतिबंध लगाया था। कोर्ट ने फतवे को गैर संवैधानिक करार देते हुए इसे व्यक्ति के मौलिक अधिकारों के खिलाफ करार दिया था।

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने मीडिया रिपोर्ट पर संज्ञान लेते हुए फतवों पर बैन लगाया था। दरअसल उत्तराखंड में रुड़की के पास लक्सर में एक नाबालिग के साथ उसके पड़ोसी ने दुष्क*र्म किया। लड़की जब गर्भवती हो गई तो दबंग लोगों ने उन्हें पुलिस में शिकायत दर्ज न कराने की धमकी दी।

यही नहीं, पीड़ित परिवार की सहायता करने के बजाए, पंचायत ने गांव से बाहर निकाले जाने का फरमान भी जारी कर दिया था। उत्तराखंड हाई कोर्ट ने इस बारे में छपी मीडिया रिपोर्ट पर संज्ञान लेते हुए आदेश जारी किया था।

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के इस फैसले पर फिलहाल रोक लगा दी है, वहीं, याचिकाकर्ताओं को नोटिस जारी कर जवाब मांगा। जमीयत उलेमा ए हिन्द ने उत्तराखंड हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दायर की थी।

याचिका में कहा गया था कि फतवा इस्लामिक विद्वानों की राय भर होता है, उस पर पूरी तरह से बैन नहीं लगाया जा सकता है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें