दिल्ली और हरियाणा में आप-कांग्रेस के बीच बनी गठबंधन की संभावना

0
12

नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन को लेकर अब भी अनिश्चितता है। एक अंदरूनी सर्वे के बाद कांग्रेस नेताओं को रुख बदलने की आशंका है.

एनडीटीवी के मुताबिक इस सर्वे में भाजपा  को 35 फीसदी वोटों के साथ आम आदमी पार्टी और कांग्रेस से आगे दिखाया गया है। दिल्ली कांग्रेस प्रदेश कमेटी से जुड़े एक नेता ने एनडीटीवी को बताया, ‘पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के राज्य ईकाई की बात मानने और आप के साथ गठबंधन न करने का फैसला लेने के बाद वरिष्ठ केंद्रीय नेताओं ने राहुल गांधी से मुलाकात की और उन्हें इस फैसले पर दोबारा से विचार करने के लिए कहा।

वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी द्वारा कराए गए सर्वे राहुल गांधी को दिखाया, जिसमें आम आदमी पार्टी को 28 फीसदी, कांग्रेस को 22 फीसदी और भाजपा को 35 फीसदी वोट मिल रहे थे। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अगर आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन किया जाता है तो दिल्ली की सातों सीटें गठबंधन के खाते में आ जाएंगी।’

वरिष्ठ केंद्रीय नेताओं से मुलाकात के बाद राहुल गांधी ने आम आदमी पार्टी के साथ गठबंधन पर शक्ति ऐप के जरिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं से राय मांगी थी। इसके बाद उस फीडबैक का नतीजा राहुल गांधी को दे दिया गया है।

इसी बीच दिल्ली कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको ने दिल्ली कांग्रेस चीफ शीला दीक्षित से मुलाकात की और उन्हें वोट शेयर के सर्वे के नतीजे दिखाए। इसके साथ ही उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की राय बताई। हालांकि दीक्षित ने अपना पूरा रुख नहीं बदला, लेकिन वह इस बात के लिए राजी हो गईं कि ‘आप’ के साथ गठबंधन पर पार्टी नेतृत्व के फैसले से सहमत होने के लिए तैयार हैं।

साथ ही बताया कि चाको ने इसके बाद दिल्ली कांग्रेस यूनिट के अन्य नेताओं से मुलाकात की और सभी नेताओं ने आप के साथ गठबंधन को लेकर पार्टी नेतृत्व के फैसले के साथ जाने पर सहमति दे दी। पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और गुलाम नबी आजाद दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के संपर्क में हैं। दिल्ली और हरियाणा में आम आदमी पार्टी और कांग्रेस में गठबंधन की संभावना है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें