उत्तर प्रदेश के गोंडा जिले में एक मुस्लिम परिवार ने लोकसभा चुनाव के नतीजे के दिन पैदा हुए अपने बेटे का नाम नरेंद्र मोदी रखा था। लेकिन अब नाम बदलकर ‘मोहम्मद मोदी’ कर दिया।

दरअसल, बच्चे के जन्मदिन को लेकर भी विवाद शुरू हो गया है। बच्चे की मां ने जन्मतिथि 23 मई को बताई थी, लेकिन अब कहा जा रहा है कि नवजात का जन्म 12 मई को ही हुआ था। डॉक्टरों का भी कहना है कि नवजात की जन्मतिथि 23 मई नहीं, बल्कि 12 मई है। बच्चा 12 मई को दिन करीब 12 बजे के करीब पैदा हुआ था। महिला ने लोकप्रियता हासिल करने के लिए बच्चे का नाम नरेंद्र मोदी रखा और अब कह रही है कि समाज के डर से नाम बदल दिया।

हालांकि बच्चे की मां मैनज बेगम का कहना है कि उन्होंने समाज के डर से बच्चे का नाम बदल दिया है। मैनज बेगम ने कहा कि मोदी के नाम पर बच्चे का नाम रखने पर उसके समाज के लोग खासे नाराज थे और उन पर नाम बदलने का दवाब बना रहे थे। उसने कहा कि रिश्तेदार बच्चे का हकीका और खतना न होने की बात कह रहे हैं। इसलिए अब उसने अल्ताफ को नरेंद्र मोदी की बजाए मोहम्मद अल्ताफ़ आलम मोदी के नाम से पुकारने की बात कही है।

बता दें कि वजीरगंज कस्बे के परसापुर महरौर में मोहम्मद इदरीस की बहू ने 23 मई को एक बच्चे को जन्म दिया था। अगले दिन घर में बच्चे का नाम रखने की बात चली तो प्रसूता ने नवजात बच्चे का नाम नरेंद्र मोदी रखने की जिद पकड़ ली। जिसके बाद बच्चे के पिता दादा इदरीस ने अपनी बहू का समर्थन किया और बच्चे का नाम नरेंद्र मोदी रख दिया।

इसके बाद फोन पर बच्चे के पिता से सहमति ली गई और डीएम ऑफिस में एक हलफनामा दर्ज किया गया, जिसमें लिखा गया कि परिवार रजिस्टर में बच्चे का नाम नरेंद्र मोदी लिखा जाए।