सऊदी ने ईरान को बताया वैश्विक सुरक्षा के लिए खतरा, मुस्लिम राष्ट्रों से दृढ़ता से जवाब देने की अपील की

0
67

सऊदी अरब के शाह सलमान बिन अब्दुल अज़ीज़ अल सऊद ने ईरान के परमाणु तथा बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम को क्षेत्रीय और वैश्विक सुरक्षा के लिए खतरा बताया है।

अल-अरबिया टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक खाड़ी सहयोग परिषद की गुरुवार रात मक्का में बुलाई गयी आपातकालीन बैठक में सऊदी के शाह ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि ईरान की कार्रवाइयों ने संयुक्त राष्ट्र की संधियों का उल्लंघन कर अंतरराष्ट्रीय समुद्री व्यापार और वैश्विक तेल आपूर्ति के लिए बड़ा खतरा पैदा कर दिया है।

खाड़ी सहयोग परिषद की बैठक को संबोधित करते हुए सऊदी के शाह ने कहा, “ हम सभी चुनौतियों का सामना करने के लिए एकसाथ मिलकर काम करेंगे। ईरान अन्य देशों के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप कर रहा है, अपने परमाणु कार्यक्रम के जरिये वह वैश्विक सुरक्षा के लिए खतरा पैदा कर रहा है।”

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब के लिए क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता को बनाए रखना प्राथमिकता है। क्षेत्रीय तनाव को कम करने के लिए उन्होंने खाड़ी, अरब और सभी इस्लामिक देशों से साथ मिलकर काम करने का आह्वान किया।

वहीं सऊदी अरब के विदेश मंत्री इब्राहिम अल असफ ने गुरुवार से सऊदी अरब में शुरू हो रही वार्ताओं की श्रृंखलाओं से पहले इस्लामिक सहयोग संगठन के 57 सदस्य राष्ट्रों के विदेश मंत्रियों की बैठक के पहले मुस्लिम राष्ट्रों से अपील की कि वे क्षेत्र में हुए उन हालिया हमलों का सामना पूरी ताकत एवं दृढ़ता से करे जिनके लिए अमेरिका एवं उसके सहयोगियों ने ईरान को जिम्मेदार ठहराया है।

अल असफ ने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के तट के पास नौकाओं में कथित तोड़-फोड़ और यमन के ईरान समर्थित हूती विद्रोहियों की तरफ से सऊदी अरब के तेल पाइपलाइन पर ड्रोन हमले के बाद क्षेत्र को चरमपंथियों एवं आतंकवादी समूहों की आतंकवादी गतिविधि से निपटने के लिए अधिक प्रयास करने की जरूरत है।

उन्होंने कहा, ‘हमें इनसे पूरी ताकत एवं दृढ़ता से निपटना होगा।’ ईरान के एक अधिकारी इस बैठक में मौजूद थे लेकिन ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद जरीफ इसमें शामिल नहीं हुए। ईरान ने इन हमलों में संलिप्तता से इनकार किया है।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें