बजरंग दल ने स्कूली बच्चों को दी बंदूक चलाने की ट्रेनिंग, पुलिस में शिकायत दर्ज

0
84

नई दिल्ली:  सोशल मीडिया पर बजरंग दल का एक वीडियो सामने आया है जिसमें वो छोटे बच्चों को हथियार चलाने की ट्रेनिंग देते दिख रहे हैं. डेमोक्रेटिक यूथ फेडरेशन ऑफ इंडिया (DYFI) की ओर से शिकायत दर्ज कराए जाने के बाद पुलिस इस मामले की तफ्तीश कर रही है.

DYFI ने गुरुवार को भायंदर स्थित नवघर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई. बजरंग दल कार्यकर्ता प्रशांत गुप्ता ने अपने फेसबुक पेज पर कुछ तस्वीरें पोस्ट की थीं, जिन्हें देखने के बाद ये शिकायत दर्ज कराई गई. शिकायत के मुताबिक, 21 मई को गुप्ता ने फेसबुक पेज पर एक समर कैंप के बारे में पोस्ट किया. यह समर कैंप 25 मई से 1 जून तक भायंदर पूर्व स्थित सेवेन इलेवन अकादमी में आयोजित किया गया. बता दें कि यह अकादमी बीजेपी विधायक नरेंद्र मेहता का है.

इस मामले में शिकायतकर्ता सादिक बादशाह का कहना है कि देश मे पुलिस और सेना के रहते सेल्फ डिफेन्स प्रशिक्षण की क्या जरूरत है? ये युवकों के मन में एक धर्म के प्रति नफरत पैदा करने की कोशिश है.’ सादिक बादशाह ने अपनी शिकायत में प्रशांत गुप्ता नाम के एक लड़के का बंदूक और आग के बीच प्रशिक्षण लेते समय के फोटो भी संलग्न किए हैं जो उसने अपने फेसबुक एकाउंट में पोस्ट की है.

DYFI के सेक्रेटरी एडवोकेट संजय पांडे के मुताबिक, पुलिस को यह जांच करनी चाहिए कि दक्षिणपंथी संगठन ने आखिर कैसे युवाओं को हथियार चलाने की ट्रेनिंग दी. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, ‘यह आर्म्स ऐक्ट के तहत अपराध है. पुलिस जांच करे कि कैंप के आयोजनकर्ताओं को हथियार कहां से मिले. यह बहुत चिंताजनक है कि ऐसी चीजें स्कूल के अंदर हुई हैं.’

इस बीच बीजेपी के स्थानीय विधायक और स्कूल के मालिक नरेंद्र मेहता ने एनडीटीवी को बताया कि उनका निजी स्कूल है जहां पर अलग- अलग सामाजिक संस्थाएं और पार्टियां कार्यक्रम करती रहती हैं. बजरंग दल का भी प्रशिक्षण शिविर लगा था लेकिन वहां किसी भी तरह के बंदूक का प्रशिक्षण नहीं दिया गया. मेहता ने साफ किया कि एक अखबार में आग के बीच कूदते लड़के और बंदूक चलाते युवकों की तस्वीर उनके स्कूल की नहीं है. गलत तस्वीर लगाकर उनके स्कूल को बदनाम किया जा रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें