तबरेज अंसारी को न्याय दिलाने के लिए बिहार में भी हुआ जमकर विरोध-प्रदर्शन

0
222

झारखंड के कोल्हान प्रमंडल क्षेत्र में कथित चोरी के आरोप में 24 साल के तबरेज़ अंसारी की पिटाई के बाद हुई मौ’त के मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की और से दिया गया दिलासा भी देश की जनता के गुस्से को ठंडा नहीं कर पा रहा है।

देश भर में तबरेज के हत्यारों के खिलाफ सड़कों पर उतर रहे।पड़ोसी राज्य बिहार के कई हिस्सों में बुधवार को तबरेज की हत्या के खिलाफ सड़कों पर लोगो का हुजूम देखने को मिला। हाथों में तख्तियाँ थामें हुए लोग तबरेज के लिए इंसाफ की आवाज बुलंद करते हुए नजर आए।

बता दें कि बुधवार को ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मामले में राज्य सभा में अपनी प्रतिक्रिया दी। पीएम मोदी ने कहा है कि युवक की हत्या का दुख सबको है, और होना भी चाहिए, लेकिन इस एक घटना के लिए पूरे झारखंड को जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता।

इससे पहले राज्यसभा में विपक्ष के नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए इस हत्या का हवाला दिया था। मोदी ने कहा कि विपक्ष झारखंड के बारे में कह रहा है कि यह प्रदेश मॉब लिंचिंग का अड्डा बन गया है।

प्रधानमंत्री ने कहा, ”विपक्ष कह रहा है कि झारखंड मॉब लिंचिंग का अड्डा बन गया है। हमें युवक की मौत का दुख है। दोषियों को कड़ी से कड़ी सज़ा मिलनी चाहिए। लेकिन क्या इसके लिए पूरे झारखंड को बदनाम करना ठीक है? इससे किसी का भला नहीं होगा। अपराध होने पर उचित क़ानून और संविधान के दायरे में कार्रवाई करनी चाहिए।”

जिस पर मोदी ने कहा, ”दुनिया में आतंकवाद को गुड और बैड के नज़रिए से नहीं देखना होगा। हिंसा को हम अलग-अलग चश्मे से नहीं देख सकते हैं। मानवता के प्रति हमारी संवेदनशीलता रहनी चाहिए। हम केरल और पश्चिम बंगाल की हिंसा को अलग-अलग नज़रिए से नहीं देख सकते। जिसने यह काम किया है उसे कड़ी से कड़ी सज़ा मिले।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ”मैं समझता हूं कि राजनीतिक चश्मे उतारकर देखना चाहिए। अगर ऐसा करेंगे तो उज्ज्वल भविष्य नज़र आएगा। जिन लोगों ने दिल्ली की सड़कों पर गले में टायर लटका कर सिखों को जला दिया था और उनमें संदिग्ध रहे कई लोग संवैधानिक पदों पर बैठे हैं।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें