आम तौर पर लोग किसी मुराद की पूर्ति के लिए मन्नत मांगते हैं और इसमें मंदिर-मस्जिद का भेद नहीं करते, लेकिन समाज में फैले तथाकथित धर्म के ठेकेदारों को ये बात ब’र्दाश्त नहीं होती कि कोई उनके धर्म के सिवा किसी दुसरे धर्म को पूजे. ऐसा ही हुआ है आगरा के करहल निवासी नौशाद और उनकी पत्नी के साथ. हनुमान की पूजा करने पर मुस्लिम समाज के कुछ लोग दंपती की जान के दु’श्म’न बन गए हैं. नौशाद और उसकी पत्नी के साथ मा’रपी’ट की गई. उसे पूजा अर्चना करने और पुजारी के पैर छूने से रोका गया. पीड़ित ने ए’एसपी को शिकायती पत्र देकर सु’रक्षा की गुहार लगाई है.

करहल कस्बा निवासी नौशाद ने अपर पु’लिस अधीक्षक (एएसपी) ओमप्रकाश सिंह को सौंपे शिकायती पत्र में कहा है कि वह और उसकी पत्नी पिछले दो महीने से हनुमान जी की भक्ति कर रहे हैं. नौशाद करहल कस्बे के ही बजरंगबली मोटा मंदिर के पास रहकर रोजाना मंदिर की साफ सफाई करने के साथ ही हनुमान की पूजा अर्चना करते हैं. इसके साथ ही दंपती पुजारी के पैर भी छूते हैं. इसी के चलते मुस्लिम समाज के कुछ लोग उसके साथ अक्सर मा’रपी’ट करते हैं. विगत 17 फरवरी को वह शिकायत करने आया था. इस बात पर भी उसे पी’टा गया. दंपती ने ना’मज’द लोगों पर कार्र’वाई की मांग की है. युवक ने एस’डीएम रतन वर्मा को भी शिकायती पत्र दिया है.

नौशाद ने बताया कि पिछले कई सालों से वह नशे का आदी हो गया था. डॉक्टर से लेकर छोटे-मोटे वैद्य को भी दिखाया, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. किसी ने नौशाद को मोटा मंदिर जाने की सलाह दी. वह यहां आया तो उसकी नशे की आदत छूट गई. उसके जीवन में परिवर्तन आया, इसलिए उसने पत्नी के साथ हनुमान की पूजा अर्चना शुरू कर दी. उसका कहना है कि सबका मालिक एक है, भेदभाव सिर्फ मनुष्य करता है. अपर पु’लिस अधीक्षक ओमप्रकाश सिंह का कहना है कि युवक को परेशान करने वाले ना’मज’द लोगों के खि’लाफ जां’च कर कार्र’वाई के निर्देश था’ना पु’लिस को दिए गए हैं.