हबीबुल्ला ने को’र्ट में दिया हलफ़’नामा, रास्ते पु’लिस रोक रही है, शाहीन बाग़ नहीं

0
108

सीएए-एनआरसी के विरो’ध में दिल्ली के शाहीन बाग़ में 2 महीने से ज्यादा वक्त से विरो’ध प्र’दर्शन जारी है. हाल ही में सुप्रीम को’र्ट ने कुछ लोगों को शाहीन बाग़ के प्र’दर्शनका’रियों से वार्ता करने के लिए नियुक्त भी किया था. सुप्रीम को’र्ट की ओर से नियुक्त वार्ताकार वजाहत हबीबुल्ला ने सड़क बंद होने को लेकर सुप्रीम को’र्ट में हलफ’नामा दायर किया है. हल’फनामे में कहा गया है कि प्र’दर्शन शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा है. पु’लिस ने 5 जगहों पर रोड ब्लॉक किया है. अगर ब्लॉकिंग रोक दी जाती तो ट्रैफिक सामान्य तरीके से चलने लगता. हलफ’नामे में कहा गया है कि पु’लिस ने बेवजह रास्ता बंद किया, जिसकी वजह से लोगों को परेशानी हो रही है.

अपने हलफ’नामे में वजाहत हबीबुल्ला ने लिखा है कि पु’लिस ने बेवजह रास्ता बंद किया है जिससे लोगों को परेशानी हो रही है. हालांकि स्कूल वैन और एंबुलेंस जाने की इजाजत दी जा रही है लेकिन पु’लिस की चेकिंग के बाद ही इसकी अनुमति है. सीएए-एनआरसी के मुद्दे पर सरकार को प्र’दर्शनका’रियों से बात करनी चाहिए. बताते चलें कि वजाहत हबीबु्ल्ला पूर्व आईएएस अधिकारी हैं और प्रमुख सूचना आयुक्त भी रह चुके हैं. हबीबुल्ला राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के भी अध्यक्ष रह चुके हैं. सुप्रीम को’र्ट में सोमवार को शाहीन बाग मुद्दे पर सुनवाई होने वाली है.

शाहीन बाग में प्र’दर्शन कर रहे लोगों ने करीब 70 दिन बाद शनिवार को नोएडा और फरीदाबाद जाने वाले एक वैकल्पिक रास्ते को खोल दिया. इस रास्ते से सिर्फ छोटी गाड़ियां, कार और बाइक ही जा सकते हैं. इसकी वजह यह है कि यह रास्ता बेहद संकरा है. यह रास्ता होली फैमिली, जामिया, बटला हाउस और अबुल फजल होते हुए नोएडा और फरीदाबाद जाता है. यह रास्ता आगे जाकर नोएडा की तरफ तो बढ़िया है, लेकिन फरीदाबाद की तरफ जाने वाला रास्ता बेहद संकरा है. प्र’दर्शनका’रियों ने सिर्फ एक तरफ का रास्ता खोला है. हालांकि वापस जाने वाले रास्ते पर अब भी बैरिकेड लगे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें