245 की रैपिड किट 600 में खरीदे जाने पर चुप क्यों है मोदी सरकार: मौलाना उमर कासमी

0
41

भोपाल: मध्य प्रदेश कांग्रेस सचिव मौलाना उमर कासमी ने कोविड-19 परीक्षण में काम आने वाली रैपिड टेस्ट किट की खरीदी में हो रहे भ्रष्टाचार को लेकर मोदी सरकार की चुप्पी पर सवाल उठाए है।

कांग्रेस सचिव ने कहा कि आईसीएमआर 245 रुपये में आयात की गई एंटीबॉडी टेस्ट किट को 600 रुपये प्रति पीस में क्यों खरीद रही है। उन्होने कहा कि टेस्ट किट की खरीद पर बिचौलिया जमकर मुनाफा कमा रहे है। लेकिन मोदी सरकार ने अपनी आंखे बंद की हुई है।

उन्होने कहा कि देश में लोग कोरोना से मर रहे है। रैपिड टेस्ट किट के अभाव में कोरोना मामलों के टेस्ट में तेजी नहीं आ पा रही है। वहीं ऐसे वक्त में भी इन कंपनियों को मुनाफाखोरी सूझ रही है। जो शर्मनाक है। इस खतरनाक महामारी में सीधे भ्रष्टाचार के जरिये देश का अपमान किया जा रहा है।

कासमी ने कहा कि दिल्ली हाई कोर्ट ने भी पाया कि किट के लिए बहुत ज्यादा पैसे वसूले जा रहे हैं और उसने निर्देश दिया कि उसके दाम घटाकर 400 रुपये प्रति किट किए जाने चाहिए। अन्यथा ये लूट जारी ही रहती।

कांग्रेस सचिव ने कहा कि मोदी सरकार को देश की जनता का भी बिलकुल भी ख्याल नहीं है। एक तरह इस महामारी से निपटने के लिए जनता अपनी खून-पसीने की कमाई दान कर रही है। वही मोदी सरकार इस दान को भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ने दे रही है।

यह टीशर्ट खरीदने के लिए इस फोटो पर क्लिक करें