‘राष्ट्र के नाम सन्देश’ में पीएम मोदी ने कही ये बड़ी बातें

0
100

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राष्ट्र को संबोधित कर रहे हैं. उन्होंने कहा, कोरोना वैश्विक महामा’री के खि’लाफ ल’ड़ते-ल’ड़ते हम अनलॉक-2 में प्रवेश कर रहे हैं. साथ ही हम उस मौसम में भी प्रवेश कर रहे हैं जिसमें सर्दी, जुकाम बढ़ जाते हैं, इसलिए आप सबसे अपील है कि खुद का ख्याल रखें. कोरोना से होने वाली मौ’त की दर देखें तो दुनियाभर के देशों की तुलना में भारत बेहतर स्थिति में है. यह समय पर लिए गए लॉक’डाउन के फैसले के कारण हुआ है. उन्होंने कहा कि पहले हम हाथ धोने और सामाजिक दूरी को बनाए रखने, मास्क पहनने को लेकर काफी सतर्क थे लेकिन अब इसमें काफी लापरवाही देखी जा रही है. हमें सतर्कता बरतनी होगी. पीएम मोदी ने कहा कि एक देश के प्रधानमंत्री पर 13,000 हजार रुपये का जु’र्माना इसलिए लग गया क्योंकि उन्होंने मास्क नहीं पहना था. भारत में गांव का प्रधान हो या फिर देश का प्रधानमंत्री, कोई भी नियमों से ऊपर नहीं है.

पीएम मोदी ने एक बड़ी घोषणा करते हुए कहा, मॉनसून के दौरान भारत में सबसे ज्यादा खेती का काम होता है. ऐसे में सरकार ने फैसला किया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का विस्तार होगा और इसके तहत नवंबर तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज दिया जाएगा. इस योजना के तहत 80 करोड़ परिवारों को हर महीने 5 किलो चावल और 5 किलो गेहूं दिया जाएगा. साथ ही एक किलो चना भी दिया जाएगा. उन्होंने कहा, एक राष्ट्र और एक राशन कार्ड की व्यवस्था की जाएगी. यानी पूरे भारत के लिए एक ही राशन कार्ड होगा. पीएम ने कहा कि कोरोना से ल’ड़ते हुए भारत में 80 करोड़ लोगों को तीन महीने का राशन मुफ्त दिया गया है. इसके अतिरिक्त प्रत्येक परिवार को हर महीने एक किलो दाल भी दी गई. एक तरह देखें तो अमेरिका की कुल जनसंख्या से ढाई गुना अधिक लोगों को, ब्रिटेन की जनसंख्या से 12 गुना अधिक लोगों को, और यूरोपीय यूनियन की आबादी से दोगुने से ज्यादा लोगों को सरकार ने मुफ्त अनाज दिया.

पीएम मोदी ने कहा कि देश हो या व्यक्ति समय पर और संवेदनशीलता से फैसला लेने पर सं’कट का मुकाबला करने की शक्ति अनेक गुना बढ़ जाती है. इसलिए लॉक’डाउन होते ही सरकार प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना लेकर आई. इस योजना के तहत गरीबों के लिए पौने दो लाख करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया. बीते तीन महीनों में जनधन खातों में 31 हजार करोड़ रुपये जमा करवाए गए. 9 करोड़ किसानों के बैंक खातों में 18 हजार करोड़ रुपये जमा हुए हैं. प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरे देश में एक राशनकार्ड पर काम किया जाएगा. आज अगर सरकार सबको राशन दे रही है तो उसका क्रेडिट अन्नदाता किसान औऱ दूसरा ईमानदार टैक्सपेयर को जाता है. आपने देश का अन्न भंडार भरा है इसलिए आज गरीब का चूल्हा जल रहा है. आपने ईमानदारी से टैक्स भरा है, अपना दायित्व निभाया है इसलिए आज देश का गरीब संकट से मुकाबला कर पा रहा है. मैं हर किसान और करदाता को धन्यवाद देता हूं. आने वाले समय में हम अपने प्रयासों को और तेज करेंगे. हम सभी को सशक्त करने के लिए निरंतर काम करेंगे.