लम्बे वक़्त से कोरोना वायरस ने दुनिया में भारी त’बाही मचा रखी है. इस जानले’वा महामा’री ने न केवल इंसानी जान पर असर डाला है, बल्कि दुनिया की अर्थव्यवस्था पर भी इस का व्यापक असर पड़ा है. बीते कुछ महीनों से कई देश कोरोना वायरस वैक्सीन तैयार करने में जुटे हुए हैं. कई देशों ने वैक्सीन तैयार भी कर ली है, तो कई वैक्सीन्स अभी विभिन्न चरणों में ट्रायल में हैं.

इसी बीच खबर है कि भारत में कोरोना वायरस की वैक्सीन तैयार कर रही फार्मा कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट के संस्थापक सायरस पूनावाला दुनिया में अल्पसंख्यक माने जाने वाले पारसी समुदाय के लिए 60 हजार वैक्सीन सुरक्षित रखने पर सहमत हो गए हैं. बता दें कि पूनावाला स्वयं भी पारसी समुदाय से आते हैं. बॉम्बे पारसी पंचायत के चेयरमैन दिनशॉ मेहता और अदार पूनावाला ने भी इस बात की पुष्टि की कि अगर सीरम इंस्टीट्यूट कोरोना वायरस वैक्सीन बनाने में सफल होता है तो इसके 60 हजार डोज़ पारसी समुदाय के लिए सुरक्षित रखे जाएंगे.

अदार पूनावाला सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के सीईओ हैं. बताया जा रहा है कि सीरम इंस्टिट्यूट बड़े पैमाने पर कोरोना वायरस वैक्सीन का उत्पादन करने वाली है. सीरम इंस्टिट्यूट अमेरिका के ऑक्सफ़ोर्ड के साथ मिल कर कोरोना वायरस वैक्सीन बना रही है. ‘कोवीशील्ड’ नामक इस वैक्सीन की 300 से 400 मिलियन तक डोज़ बनायीं जाएँगी. एक वैक्सीन की कीमत भारत में अनुमानित एक हज़ार रुपये तक होगी.