कोरोना वायरस ने भारत समेत कई देशों की रफ़्तार पर ब्रेक लगा दिया है. ऐसे में छात्रों के भविष्य पर भी कोरोना का काला साया छाया हुआ है. हर तरह की परीक्षाओं में हो रही देरी को देखते हुए सुप्रीम को’र्ट ने देश की सबसे अहम परीक्षा में शुमार जेईई और नीट की परीक्षाओं पर अपना फैसला सुना दिया है. सुप्रीम को’र्ट ने 11 छात्रों की उस याचिका को खारिज कर दिया है जिसमें कोविड-19 महामा’री की स्थिति को देखते हुए जेईई मेन और नीट परीक्षा स्थगित करने की मांग की गयी है. सुप्रीम को’र्ट ने कहा है कि ये परीक्षाएं तय समय पर ही आयोजित की जाएंगी. सुनवाई के दौरान जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा कि शिक्षा से जुड़ी चीजों को अब खोल देना चाहिए, क्योंकि कोरोना वायरस का क’हर अभी और एक साल तक जारी रह सकता है.

बता दें कि सुप्रीम को’र्ट ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा नीट और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा जेईई मेन को स्थगित करने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई की है. इस याचिका में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते सितंबर में प्रस्तावित जेईई मेन और नीट यूजी परीक्षाओं को टालने की मांग की गई थी. लेकिन अब यह परीक्षाएं अपने तय समय यानि 1 सितंबर से 6 सितंबर में ही आयोजित की जाएँगी. इसके अतिरिक्त नीट परीक्षा 13 सितंबर को आयोजित की जाएगी. 11 राज्यों के 11 छात्रों ने देश में तेजी से फैलते कोरोना वायरस के मद्देनजर जेईई मेन और नीट यूजी परीक्षाएं स्थगित करने की मांग के साथ सुप्रीम को’र्ट में याचिका दायर की थी. याचिका में कोरोनावायरस महामा’री का जिक्र करते हुए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी के तीन जुलाई के नोटिस को रद्द करने का अनुरोध किया गया था. याचिका में छात्रों ने मांग की थी कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं होती है, तब तक परीक्षा न कराई जाएं.