कोरोना काल में लम्बे वक़्त से लगा लॉकडाउन लगभग पूरी तरह खुल चुका है. हालाँकि कई राज्य अब भी अपने स्तर पर साप्ताहिक या अंशकालिक तालाबं’दी कर रहे हैं. ऐसे में आम जनता को आवागमन में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. इस मामले में केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों के चीफ सेक्रटरी को एक चिट्ठी लिखी है, जिसमें उन्होंने राज्यों से आवागमन पर रोक न लगाने की अपील की है. उन्होंने चिट्ठी में लिखा है कि ऐसा करने पर यह गृह मंत्रालय की गाइडलाइन का उ’ल्लं’घन होगा. इसके साथ ही अजय भल्ला ने कहा कि स्थानीय, अंतरराज्यीय स्तर पर आवागमन में रोक लगने से सप्लाइ चेन पर असर पड़ रहा है और आर्थिक स्तर पर भी बुरा प्रभाव पड़ रहा है.

सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों में यह भी कहा गया है कि पड़ोसी देशों के साथ समझौते के तहत सीमा पार व्यापार के लिए व्यक्तियों या सामान के आवागमन हेतु अलग से अनुमति या ई-परमिट की जरूरत नहीं होगी. गृह सचिव ने कहा कि ऐसे प्रतिबं’ध आप’दा प्रबंधन कानू’न 2005 के प्रावधानों के तहत गृह मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के उ’ल्लं’घन के समान हैं. कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के चलते अधिकतर राज्यों में ट्रकों के आवागमन पर रोक लगाई जा रही थी. साथ ही कई राज्यों ने अपने यहाँ एंट्री के नियमों में काफी सख्ती कर दी थी. इसके चलते गृह मंत्रालय ने चिट्ठी लिखकर सभी राज्यों से कोरोना गाइडलाइन्स और आप’दा प्रबंधन कानू’न का पालन करने का निर्देश दिया है.